नयी तालीम का जन्म

राष्ट्र – जीवन के धड़कनों के साथ यदि आपका व्यक्तिगत जीवन भी धड़कता हो तो एक अपूर्व भाग्य ही माना जाएगा . मुझे यह भाग्य प्राप्त हुआ था . गांधीजी ने दुनिया को एक के बाद एक जो नयी देनें दीं , उनमें नयी तालीम एक अमूल्य रत्न माना जाएगा . नयी तालीम का विकास और मेरी पढ़ाई की व्यवस्था एक ही समय हुई ,  यह एक विचित्र संयोग था .

    प्रसंग निजी था , लेकिन उसका महत्त्व सार्वजनिक था . कई वर्षों में हम सब परिवार की तरह एक साथ नहीं रह पाये थे . काका या तो जेल में या सफ़र में रहते थे . १९३२ में माँ भी जेल चली गयीं . तब हमारी स्थिति ‘ कहाँ चन्दन और कहाँ मलयागिरि ‘ की तरह हुई . बापू वर्धा से सेगाँव रहने गये . तब डाक और मेहमानों की व्यवस्था के लिए काका वर्धा में ही मगनवाड़ी में ठहर गये .  कुछ स्थिरता से रहना होगा , ऐसा मानकर काका ने हम लोगों को साबरमती से वर्धा बुला लिया . यह तक किया था कि वर्धा में रहेंगे और मुझे किसी अच्छे स्कूल में दाखिल कराया जाएगा . स्व, जमनालाल बजाज की प्रेरणा से उन दिनों वर्धा में ‘मारवाड़ी विद्यालय ‘ चल रहा था .उसीका नाम आगे चल कर ‘नवभारत विद्यालय ‘  रखा गया था . इस स्कूल में मुझे भेजा गया . शान्ति – निकेतन में रवीन्द्रनाथ ठाकुर के पास काम किये हुए स्व. ई.डब्ल्यू. आर्यनायकम उन्हीं दिनों बापू के पास नये – नये पहुँचे थे और विद्यालय में आचार्य – पद पर काम करने लगे थे .

    एक भाई मुझे विद्यालय में छोड़ आए . गुजरात विद्यापीठ के विनय मन्दिर की पाँचवीं कक्षा पूरी करके वहाँ मैं छठी में गया था , लेकिन यहाँ मुझे सातवीं में दाखिल किया गया यह समझकर कि उसमें मैं साथ चल सकूँगा . बस, यहीं दिक्कतें प्रारम्भ हुईं . गुजरात – विद्यापीठ में मैं हिन्दी भाषा में आगे था . लेकिन यहाँ की हिन्दी कुछ अटपटी लगी . फिर यहाँ के शिक्षक के अंग्रेजी के उच्चारण समझ ही नही पाता था . भूगोल मेरा प्रिय विषय था . लेकिन यहाँ के शिक्षकों ने भूगोल के जितने प्रश्न पूछे , उनमें से एक का भी जवाब मैं सही नहीं दे पाया . मैंने भारत का भूगोल सीखा था . यहाँ प्रश्न पूछा गया था दक्षिण अमेरिका के किसी देश का . क्लास में कुछ समझ में नहीं आता था , यह मुख्य नहीं थी . वास्तव में कठिनाई दूसरी ही थी . स्कूल के वातावरण से थोड़े ही समय में मेरा दम घुटने लगा . वर्ग – शिक्षक के कक्षा में आते ही सारे विद्यार्थी खड़े हो गये . पाठशाला के विनय का यह प्राथमिक पाठ मैं सीखा ही नहीं था . मुझे उसमें गुलामी की गन्ध आयी . गरमी की छुट्टी के बाद स्कूल खुला था , इसलिए छुट्टी के दिन कैसे बिताये , यह वर्ग – शिक्षक हरएक से पूछ रहे थे . उसमें शिक्षक कुछ – कुछ विनोद भी करने लगे . यहाँ तक तो ठीक था . लेकिन १२ – १३ साल के बच्चों के साथ पूरा समय उन्होंने विवाह और तत्सम्बन्धी मजाक की बातें करने में बिताया , यह बात मेरे गले नहीं उतरी . क्लास पूरा होने पर बाहर आया , तो करीब – करीब हर शिक्षक के मुँह में बीड़ी ! अधिकतर शिक्षकों के बदन पर खादी भी नहीं थी . बिना खादी के लोग उन दिनों मुझे किसी दूसरी ही बिरादरी के लगते थे . काका के पास घर लौटने पर पहले तो मैं रो ही दिया और फिर अपना निर्णय जाहिर करते हुए कहा , ‘कुछ भी हो ऐसे स्कूल में तो कभी नहीं पढ़ूँगा .’ काका ने मुझे समझाने की कोशिश की . लेकिन उनके समझाने में उत्साह दिखाई नहीं दिया . पाठशाला का जो वर्णन मैंने उनको सुनाया , उससे उनका उत्साह भी ठण्डा पड़ गया था . उन्होंने अन्त में कहा , ‘ देख तू बापू को यह सब लिख कर बता दे और वे कहें उसके अनुसार निर्णय कर .’ मैंने बापू को पत्र लिखा . उन्होंने बात करने के लिए मुझे सेगाँव बुलाया .

    इस बीच आर्यनायकमजी के पास इस स्कूल में न पढ़ने के मेरे निर्णय की खबर पहुँची . उन्होंने काका से कहा , ‘ बाबला अभी खेलकूद की उम्र का है , इसलिए स्कूल में न जाने का बहाना बना रहा है . मैंने अभी – अभी पाठशाला का चार्ज सँभाला है , तो थोड़े ही दिनों में वातावरण सुधार दूँगा . आज वह स्कूल में नहीं जायगा , तो आश्रम के दूसरे बच्चों की तरह पछतायेगा और आपको ही दोष देने लगेगा .’

    बापू के साथ बात करने आर्यनायकमजी भी सेवाग्राम पहुँचे . घूमते समय बापू की एक ओर मैं और दूसरी ओर आर्यनायकमजी उनकी लकड़ी बनकर चलने लगे . आर्यनायकमजी के साथ बापू की कुछ देर बातें हुईं . तब मैंने बापू से कह दिया , ‘वे विद्वान हैं . उनकी दलीलों का ठीक – ठीक जवाब तो मैं नहीं नहीं दे सकूँगा , लेकिन स्कूल में न जाने का मेरा निर्णय पक्का है .’

    बापू ने मेरी पीठ थपथपाकर कहा , ‘ बस, मुझे तो तेरा यही निश्चय चाहिए . अब तेरा वकील बनकर मैं आर्यनायकमजी को समझा दूँगा . ‘

    इसके बाद की चर्चा में मैं केवल साक्षी बनकर रहा . आर्यनायकमजी की दलीलें सुन लेने के बाद बापू ने कहा , ‘ इस तरह के शिक्षण को त मैं शिक्षण मानने को तैयार नहीं हूँ . किसी भी बच्चे को मैं ऐसे स्कूल में जाने की सलाह नहीं दूँगा . फिर बाबला तो आश्रम का लड़का है और इस स्कूल में न जाने का उसने निश्चय कर लिया है . तो फिर मुझे और अच्छे शिक्षाशास्त्री के नाते आपसे भी इस स्कूल में जाने के लिए उससे कैसे कहा जाय ? ‘

    आर्यनायकमजी की दलीलें बाद में कई दिनों तक चलती रहीं . इस चर्चा का परिणाम यह निकला कि थोड़े ही दिनों में बापू ने नायकमजी को भी नवभारत विद्यालय से छुड़ा कर अपने पास बुला लिया .

    उन दिनों कांग्रेस के मन्त्रिमण्डल प्रदेशों में बन चुके थे . कांग्रेस सरकारें सोच रही थीं कि शिक्षा में क्या परिवर्तन किया जाय . भारत की शिक्षा – प्रणाली सिर्फ किताबी तो होनी ही नहीं चाहिए , प्रत्यक्ष उद्योग के साथ वह जुड़ी होनी चाहिए . इतना ही नहीं , बल्कि उस शिक्षण में से ही पाठशाला का खर्च निकल आना चाहिए , इत्यादि विचार बापू ‘ हरिजन ‘ पत्र में प्रस्तुत करने लगे थे . इन विचारों के पीछे बापू का जीवनभर का अनुभव , गहरा चिन्तन और दीर्घ दृष्टि थी . एक वर्ष के विचार – मंथन के बाद ‘नयी तालीम शिक्षा – पद्धति’ सामने आयी , जिसका दुनियाभर के शिक्षा-विशेषज्ञों ने उत्तम पद्धति के तौर पर स्वागत किया है .

    बापू की खूबी यह कि उन्होंने इस शिक्षा – पद्धति का प्रयोग अपनी संस्था में करने के लिए आर्यनायकम-दंपति को पकड़ा और आज ये दोनों नयी तालीम शिक्षा – प्रणाली के विश्वविख्यात आचार्य बने हैं . [श्री आर्यनायकमजी अब जीवित नहीं है . श्रीमती आशादेवी आर्यनायकम यह कार्य चला रही थीं,वह भी अब जीवित नहीं हैं .]

    चालू विद्यालय में न पढ़ने का मेरा निर्णय तो स्वीकृत हो गया , लेकिन प्रश्न यह था कि अब मेरी पढ़ाई कहाँ और कैसी हो ? मुझे कैसे सूझा पता नहीं, लेकिन मैंने बापू से कह दिया , ‘ आपके साथ रहूँगा , आपका काम करूँगा , और उसमें से जो सीखने को मिलेगा , सीखूँगा . ‘

    बापू ने मेरे इस विचार को भी मेरे वकील की तरह उठा लिया . उनकी चर्चाओं में से ही शायद यह विचार सूझा होगा , ऐसा आज मुझे लगता है .

    कौन – सा काम ? कौन – सी पढ़ाई ? किस तरह की शिक्षा ? इन सब प्रश्नों का उत्तर उसी समय कैसे मिल सकता था ! लेकिन बापू ने यह फैसला किया कि ‘ बाबला महादेव के साथ रहेगा , महादेव सौंपे वह काम करेगा और वह जो पढ़ायेगा सो पढ़ेगा . ‘

    महात्मा के मन्त्री को ‘ पीर , बबर्ची ,भिस्ती,खर’ तो बनना ही पड़ता है . लेकिन अपने बच्चे का पूरे समय का शिक्षक बनने की जिम्मेवारी भी उसके सिर पर आयी .

    काका ने यह जिम्मेवारी तो उठा ली , लेकिन साथ ही मुझसे कहा , ‘ देख बाबला , आश्रम के अनेक लड़कों को आश्रम की पढ़ाई से असंतोष था और वे अंग्रेजी पढ़ने के लिए आश्रम छोड़कर गये , यह तू जानता है . तेरे सामने अनेक उदाहरण हैं . अपनी ओर से मैं इतना कह देता हूँ कि तुझे चाहे जब , जिस उम्र में भी , बाहर का चालू शिक्षण प्राप्त करने के लिए जाने की इच्छा हो जाए , तो मन में यह संकोच नहीं करना कि मैंने ही निश्चय किया था तो मैं ही उसे कैसे तोड़ूँ . तुझे निश्चय करने का अधिकार है तो उसे बदलने का भी अधिकार है . तू यदि चालू शिक्षण लेने के लिए गया तो मैं बाधक नहीं बनूँगा . इतना ही नहीं , बल्कि यथासम्भव सारी सहूलियत उसके लिए कर दूँगा . साथ ही आज के तेरे निश्चय को डिगाने का प्रयास भी मैं अपनी ओर से नहीं करूँगा . मेरे साथ रहकर तेरी जितनी पढ़ाई हो सकती है , उतनी कराने का प्रयत्न करूँगा . लेकिन मुख्यतया तुझे ही अपनी शिक्षा प्राप्त करनी होगी . मेरी मदद रहेगी , मेहनत तुझे करनी होगी . ‘

    इस दिन से मेरी पढ़ाई का नयी तालीम की राष्ट्रीय धारा के साथ संगम हो गया .

Advertisements

नयी तालीम का जन्म” पर एक विचार

  1. बढ़िया काम !!! नेट पर पूरी किताब रखने के लिए धन्यवाद !

    बाबू भाई को सुना था वर्धा में – मगनबाड़ी में और फ़िर नई तालीम की जयंती में सेवाग्राम में. और फिर उनके साथ वेड़छी में गुज़ारा वो एक हफ़्ता..!

    इधर पी.एच.डी. की भागमभाग में लगा हूँ…देखें फिर कब मौका मिलता है.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s