१९३० – ३२ की धूप – छाँह

भट्ठी की करामात देखो मेरे भाई .                     भले – लोग दीवाने बन फिरें भाई ..

    साबरमती – जेल के पीछे साबरमती गाँव की शराब – भट्ठी के सामने खड़ी रहकर आश्रम की बहनें शराब – विरोधी गीत , जो सूरत जिले से लेकर यहाँ तक गाया जा रहा था , गा रही थीं . यह बहनें क्या करती हैं और इनके साथ क्या होता है , यह देखने के लिए अहमदाबाद शहर से प्रेस – रिपोर्टरों के साथ काफी भीड़ इकट्ठा हुई थी . इन बहनों में से एक की उँगली पकड़ कर मैं यह दृश्य देख रहा था और बीच – बीच में एकाध गीत के साथ अपना सुर मिला देता था –

                  शराब ने सब चौपट कर दिया

                   हे शराबी ! तू छोड़ दे न शराब !

    स्वातन्त्र्य – संग्राम का एक नया अध्याय मेरे बाल – नयनों के सामने शुरु हो रहा था .

    कई लोगों के मन में शंकाएँ थीं कि गांधीजी के इस नये कार्यक्रम का क्या नतीजा होगा . मणिबहन परीख पिकेटिंग ( धरना ) करने निकली , तब अहमदाबाद शहर के उनके रिश्तेदारों और स्नेही – सम्बन्धियों के मन में यह डर था कि कहीं शराबी लोग नशे में इनका अपमान न कर बैठें . लेकिन बापू ने आश्रम की बहनों में वीर- श्री का कुछ अद्भुत संचार कर दिया था . दाण्डीकूच के बाद सत्याग्रह – आन्दोलन में शायद यह सबसे बड़ा कदम कहा जाएगा . किसी आन्दोलन में खुले तौर पर स्त्रियों के शामिल होने की घटना भारत के इतिहास में एक नयी परम्परा डालनेवाली थी . शराबबन्दी का कार्यक्रम स्त्रियों के लिए बिलकुल नया – सा था . लेकिन इसने आश्रम की ही नहीं , बल्कि गुजरात की और सारे भारत की स्त्रियों को देश के सामाजिक जीवन में एक गौरवपूर्ण स्थान दे दिया .

    उन दिनों आश्रम में बड़ी चहल – पहल थी . दाण्डीकूच के हर पड़ाव से नये – नये समाचार आते रहते थे . इधर अहमदाबाद में काका की सभाओं में लाखों की संख्या में लोग आते थे . बिना लाउडस्पीकर के उनके भाषण होते . सभाओं में बोलने या सुनने की अपेक्षा देखने की जिग्यासा ही अधिक रहती थी . और देखने की अपेक्षा क्षणभर में चुटकीभर नमक हजारों रुपये दे कर नीलामी में खरीदने और सरकार की नाराजी मोल लेने का महत्त्व अधिक था .

    आश्रम की बहनों की एक टुकड़ी ने आश्रम की वयोवृद्ध महिला गंगाबहन के नेतृत्व में खेड़ा जिले में हँसते हुए लाठियों के प्रहारों को झेला . गंगाबहन की खादी की शुभ्र साड़ी उनके सिर से बहनेवाले खून से केसरिया रंग की बन गयी . लीलाबहन आसर को बोरसद के पुलिस – थाने में अकली बुलाकर दारोगा या तत्सम पुलिस अफसर ने गालियाँ सुनाईं . आम तौर पर किसीका एक शब्द भी बरदाश्त न करनेवाली मेरी ‘ लीला बूआ ‘ ने हँसते हुए उन गालियों को सहा . भारत – कोकिला सरोजिनी नायडू ने धारासणा के नमक के ढेरों के पास कड़ी धूप में दिनभर खड़ी रहकर प्राचीन तपस्विनियों के आधुनिक स्वरूप का दर्शन कराया . इस तरह के अनेक उदाहरणों द्वारा भारत का नारीत्व जाग उठा . सत्याग्रह – आन्दोलन में महिलाओं को शरीक करके बापूजी ने राष्ट्रीय – आन्दोलन को एक नया पैमाना दे दिया .

    हर रोज लड़ाई के मैदान से आनेवाले समाचारों से आश्रम गूँज उठता था . आश्रम मानो एक सैनिक पड़ाव – सा बन गया था . जेल से छूटकर बापूजी थोड़े दिन के लिए आश्रम में आए थे . अपने यग्य में वे एक के बाद एक आहुतियाँ चढ़ाते जा रहे थे .

    एक दिन उन्होंने आश्रम की बहनों की सभा बुलाई . हम बच्चों को उसमें नही आने दिया . लेकिन सभा में क्या हो रहा है  , इसकी खबर हमारे कानों तक पहुँचे बिना नहीं रही . इस सभा में आश्रम की बची बहनों को बापू जी ने जेल जाने का आह्वान किया.

हमारे जैसे बच्चों की माताओं को भी उसमें शामिल कर लिया था . बापू का आह्वान यानि सारे देश का , अपमानित मानव – जाति का आह्वान ! इसका इनकार करने का सवाल ही नहीं था . लेकिन माँ और पिताजी , दोनों के जेल में जाने का प्रसंग मेरे लिए पहला ही था . यह दिक्कत सिर्फ़ मेरी नहीं थी , पिताजी और माँ की भी थी . वे दोनों मेरी खास व्यवस्था कर देने की फ़िकर में थे . आश्रम के बच्चों को अपने हरिजन – कन्या – छात्रालय में रख लेने का सुझाव अनसूयाबहन ने दिया था . लेकिन हम लोगों की पढ़ाई ठीक से चलती रहे , इस ख्याल से नरहरीभाई और पिताजी ने हम तीनों ( आनन्दी , मोहन , बाबला ) की रहने की व्यवस्था स्व . रामनारायण वि. पाठक के घर पर कर दी थी . अधिक सहूलियत की यह जगह होते गुए भी हम अन्य बच्चों से अलग रहने को तैयार नहीं थे . एक रात हम रामनारायण काका के वहाँ ठहरे . लेकिन उस सारी रात मैं रोता रहा . दूसरे दिन हमको सब बच्चों के साथ अनसूयाबहन के यहाँ पहुँचा दिया गया . अनसूयाबहन और शंकरलालभाई के असीम प्यार के बावजूद इस जगह हमें काफी असुविधाओं का सामना करना पड़ा .

    ‘कौओं – कुत्तों की मौत मरूँगा, लेकिन स्वराज्य – प्राप्ति तक आश्रम में फिर से पाँव नही रखूँगा ‘ इस तरह की भीष्म – प्रतिग्या करके बापू फिर से जेल चले गये . सरकार किसानों की जमीन जप्त कर रही हो , तब आश्रम अपनी सम्पत्ति को क्यों सुरक्षित रखे ? य़ह उनकी दलील थी . और बापू ने सरकार को पत्र लिखकर स्वेच्छा से आश्रम सरकार के हवाले कर दिया . आश्रम का पुस्तकालय अहमदाबाद की नगरपालिका को सौंप दिया . आश्रम के पुस्तकालय में दक्षिण अफ़्रीका से साथ लायी बापू की किताबें और काका की किताबें मिलकर करीब दस हजार किताबें थीं . आश्रम के अधिकांश भाई – बहन जेल चले गये . अन्य लोग अपने – अपने प्रदेश में काम करने चले गये . उस समय आश्रम की हालत वैसी ही हो गयी , जैसे कुंजबिहारी के अभाव में बृज की हो गयी थी . आश्रम की गायों ने तो इसका प्रत्यक्ष प्रमाण दिया . आश्रम के पास पिंजरापोल ( कांजी हाउस ) में उन गायों को लिवाया जा रहा था , तब ‘हम्मा’ ,’हम्मा’ पुकार कर वे आश्रम में वापस भाग आतीं और आश्रम की भूमि को रौंदने तथा नाक से जमीन सूँघने लगतीं . अनसूयाबहन के यहाँ से हम एक बार सूने पडे हुए इस आश्रम को देखने गये थे . वहाँ का दृश्य देखकर ही रोना आता था . कभी हमारे खेल – कूद से और गानों से गूँजता हुआ आश्रम इस समय सूनसान पड़ा था . आश्रम के मकान मानो खाने को दौडते थे . कुछ मकानों के दरवाजे या खिडकियाँ टूट चुकी थीं . प्रेमाबहन की देखभाल में हमेशा साफ-सुथरे रहनेवाले आँगनों में जगह – जगह ऊँची घास उग कर सूख भी गयी थी . हृदयकुंज का हृदय गायब था . हम वहाँ ज्यादा समय ठहर ही नहीं सके . आश्रम के इमली के पेड़ के नीचे थोड़ी देर बैठे रहे . वह पेड़ आश्रम की स्थापना से पहले का था . आश्रम में वह सबसे बड़ा वृक्ष था . इसने अपनी छाया में बापू और उनके साथियों के तम्ब्बुओं को लगते देखा था . धीरे – धीरे तम्बुओं की जगह एक – एक पक्का मकान खड़ा देखा था . कई बार इस वृक्ष के नीचे जेल की काली मोटर खड़ी रहती थी . अनेक बार अहमदाबाद के सेठों की मोटरें भी वहाँ पहुँचती थी . इसी वृक्ष की छाया में से डाण्डीकूच का प्रारम्भ हुआ था . तब आश्रमवासियोंने बापू को गौरवपूर्वक बिदा किया था. कुछ देर हम वहाँ गुमसुम बैठे रहे . हमारे खयाल से हमारे ये नि:श्वास वह वृक्ष भी समझ गया होगा .

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s